संगठन का उद्देश्य

  • 1-संगठन जनता की समस्या को प्रिंटमीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एवंसोशल मीडिया के माध्यम से अपनी आवाज उठाएगा।

  • 2- संगठन कोई राजनैतिक पार्टी नहीं है , संगठन का कार्य सिर्फ जनता की सेवा करना एवं उनके साथ खड़े होकर उनकी समस्याओं के साथ लड़ना है।

  • 3- संगठन को किसी भी राजनैतिक पार्टी के विचारों से कोई लेना देना नहीं और नही उनसे कोई मतभेद है।

  • 4-संगठन का यह उद्देश्य है की “सबका साथ, सबकी ताकत”

  • 5- संगठन की प्राथमिकता है जैसे कोई भी व्यक्ति भूख, ठण्ड, इलाज़ आदि से मृत्यु न हो।

  • 6- संगठन किसी भी जाती या धर्म/विशेष का प्रतिनिधित्वा नहीं करेगा।

  • 7- संगठन में सभी जाति धर्म के लोगो की समस्याओं के लिए आवाज उठायी जाएगी।

  • 8-संगठन कभी भी उन लोगो का साथ नहीं देगा जो जाति अथवा धर्म के नाम पे अपना व्यक्तिगत फ़ायदा उठाते हों।

  • 9- संगठन अपनी आर्थिक मजबूती को देखते हुए जनता की आर्थिक सहायता भी करेगा|

  • 10- संगठन किसी भी व्यक्ति विशेष की आर्थिक सहायता नहीं करेगा, जो व्यक्ति आर्थिक रूपसे कमजोर होगा उसी की सहायता की जाएगी।

  • 11- संगठन का प्रमुख उद्देश्य युवा शक्ति को अपने साथ जोड़ना एवं उनको राष्ट्र प्रेम और सामाजिक समस्सता के प्रति जागरूक करना होगा।

  •         "“युवा का जोश और बड़ों का अनुभव अगर मिल जाये तो देश की सूरत ही बदल जाएगी"

  • 12- संगठन का एक महत्वपूर्ण एवं प्रमुख उद्देस्य यह भी होगा की प्रत्येक निर्वाचित जनप्रतिनिधि अपने क्षेत्र में प्रत्येक माह जनता दरबार लगाकर जनता
         की समस्याओं का समाधान करें, इसके लिए संगठन अपनी आवाज उठाता रहेगा।

  • 13- संगठन जनता की समस्याओं के लिए आवाज उठाएगा न की समस्या पे अपना कोई निर्णय लेगा, समस्याओं का समाधान नियमानुसार ही होगा,
         संगठन को भारत के संविधान पे पूरा भरोसा है।

  • 14-संगठन का उद्देस्य है की अब राजनीति नहीं अब होगी कार्यनीति।

  • 15- यह संगठन सिर्फ और सिर्फ जनता का है, इसका किसी पार्टी से कोई लेना देना नहीं है।

 संगठन के कार्य

  • 1- संगठन सभी जिलों में अपने प्रभारी नुयक्ति करेगी, जो कि इस तरह होगी।

  •       अध्यक्ष / संस्था कार्यकारिणी

  •        मंडल प्रभारी

  •       जिला प्रभारी

  •       उप जिलाप्रभारी

  •        तहसील प्रभारी

  •       ब्लॉक प्रभारी

  •        ग्रामसभा/वार्ड प्रभारी

  •        बूथ प्रभारी

  • 2-जनता अपनी समस्या अपने ग्राम / वार्ड प्रभारी को लिखित रूप से दे सकता है अथवा संगठन को पत्र, ईमेल, एवं मोबाइल एप्प के माधयम से दे सकता है।

  • 3-संगठन सिर्फ लिखित समस्याओं के लिए ही आवाज उठाएगा न की मौखिक समस्याओं पे।

  • 4-जनता की समस्या का जवाब संगठन अपने मोबाइल ऍप के माध्यम से सम्बंधित प्रभारियों को औगत कराएगा एवं शिकायतकर्ता को पत्र
          अथवा टेलीफोनिक पे माध्यम से औगत कराएगा।

  • 5-संगठन एक मिसकॉल नंबर लॉन्च करेगा जिसपे कोई भी व्यक्ति संगठन के विचारधारा से जुड़कर सदस्य बन सकता है एवं अपनी समस्याओं से
          अवगत करा सकता है।

  • 6- संगठन को जो भी आर्थिक सहायता मिलेगी उससे सिर्फ जनता की ही सहायता होगी न की किसी व्यक्ति विशेष की।

  • 7- संगठन की आर्थिक जानकारी हमेशा ऑनलाइन उपलब्ध रहेगी जो की कोई भी प्रभारी उसे देख सकता है।

 संगठन के नियम

  • 1-  संगठन जनता की समस्याओं को दूर कराने के लिए किसी से भी पैसा नहीं लेगा।

  • 2-  संगठन कभी भी अनैतिक कार्य (ट्रांसफर, ठेकेदारी, नौकरी दिलाने के नाम पे पैसा लेना आदि) नहीं करेगा।

  • 3- संघठन का कोई भी प्रभारी कभी भी किसी पार्टी से चुनाव नहीं लड़ेगा।

  • 4-  - संगठन प्रभारी बनने के लिए एक आवेदन फॉर्म मिलेगा जिसको भरके संगठन को देना होगा ।उसके बाद निवास सत्यापन
           के बाद ही वह प्रभारी नियुक्त होगा।

  • 5-  - संगठन को अगर कोई आवेदन फॉर्म में मांगे गए दस्तावेज गलत होते हैं तो वह व्यक्ति कभी भी संगठन का सदस्य / प्रभारी नहीं बन पायेगा।

  • 6-  संगठन प्रभारी बनने के लिए 18 से आजीवन की आयु तक होनी चाहये।

  • 7-  संगठन द्वारा नियुक्त प्रभारी की शिकायत अगर दो बार से ज्यादा पायी गयी तो वह प्रभारी हमेसा के लिए संगठन से हटा दिया जायेगा।

  •   8- संगठन का प्रभारी सभी धर्मों में आस्था रखने वाला व्यक्ति होना चाहये।

  • 9- संगठन के सभी प्रभारी संगठन के नियम से ही कार्य करेंगे । अनुशासनहीनता किसी प्रकार की हुई तो वह तत्काल प्रभाव से हटा दिया जायेगा।

  • 10- संगठन अध्यक्ष संस्था कार्यकारिणी की अनुशंसा के आधार पर मंडल प्रभारियों की न्युक्ति करेगा और मंडल प्रभारी की अनुशंसा पर संस्था कार्यकारिणी
           की सहमति से संगठन का अध्यक्ष अन्य पदाधिकारियों की न्युक्ति करेगा।

  • 11-  संगठन का अध्यक्ष संस्था कार्यकारिणी की अनुशंसा पर किसी भी प्रभारी की न्युक्ति अथवा निलंबन कर सकता है , परन्तु किसी भी परिस्थिति में संगठन
          अध्यक्ष का निर्ण यही अंतिम होगा।

  • 12-  प्रदेश अध्यक्ष ही किसी भी प्रभारी की नियुक्ति कर सकता है और किसी भी प्रभारी को हटा सकता है पर संगठन नियम के अनुसार ही।

 Contact Us/संपर्क करे